This listing is inactive!

If you own this listing and want to activate it again?

Please login to your account here.

Hal Chal Aek Dil Ki

9689655128

-

Visit Site

Description

जब वक़्त अच्छा था, तो रिश्ते निखरते चले गए
जब ख़राब दौर आया, तो रिश्ते बिखरते चले गए
आहिस्ता आहिस्ता अपनों ने किनारा कर लिया,
हम तो वही थे दोस्तो, मगर सब बदलते चले गए
दरख़्त जब सूखने लगा यूं वक़्त की मार से यारो,
बेवफा परिंदे भी, अपना ठिकाना बदलते चले गए
मुफ़लिस का कोई दोस्त नहीं हुआ करता,
जो कुछ बचे थे, बेहयाई से रस्ता बदलते चले गए

Gallery